सोमवार, 9 मई 2011

शत्रु, मित्र और उदासीन

 एक गली में तीन युवक रहते थे. तीनो ही युवकों से मेरी अच्छी पहचान थी.तीनो ही कपास
खरीदने और बेचने का कम करते थे और उन तीनों की दूकान भी सटी हुई थी.एक रात 
शोर्ट सर्किट के कारण आग लग गयी.रात के समय कोई भी माक़ूल व्यवस्था नहीं हो पायी और उन 
तीनों की दुकानों में पड़ा कपास जल के राख हो गया. 

दुसरे दिन इस हादसे के बारे में जब मुझे मालुम चला तो मैं  उनसे मिलने और संवेदना जताने 
उनके पास पहुंचा. सबसे पहले मैं पहले मित्र के पास गया और इस दुर्घटना के बारें में पूछा .पहला 
मित्र बोला- यह हादसा काफी आघातजनक है . मैं तो इस आगजनी के कारण पांच लाख का नुकसान 
कर चुका हूँ लेकिन मैं तो बर्दाश्त कर सकता हूँ पर मेरे दोनों पड़ोसी मित्र आर्थिक  रूप से ज्यादा सक्षम 
नहीं हैं .इन दोनों में भी ये तीसरी दूकान वाला काफी कमजोर है. मुझे इन दोनों के नुकसान का काफी 
दर्द है. भगवान से मेरी प्रार्थना है की इस  आपदा की परीक्षा में इन्हें संभलने की शक्ति दें.

पहले मित्र से मिलकर में दुसरी दूकान वाले के पास गया और इस विपत्ति की घड़ी में संवेदना व्यक्त 
करके आग में हो चुके नुकसान के बारे में पूछा . उसने अपने नुकसान के बारे में बताया परन्तु 
अपने पड़ौसियों के बारे में कुछ भी चर्चा नहीं की जैसे उसे उनके दु:ख  से कोई लेनादेना नहीं हो.

इसके बाद मैं तीसरे मित्र के पास गया. उसके चेहरे पर आत्म संतुष्टी का भाव देखकर मैं एकबारगी 
तो सन्न रह गया .मेने मन ही मन उसकी दु;ख सहने की ताकत की सरहाना की और फिर उससे 
भी इस हादसे के बारे में चर्चा की.तीसरे मित्र ने बताया कि वह शुरू से ही आर्थिक रूप से कमजोर 
रहा है ओर इस विपत्ति ने उसके लिए नया संकट खड़ा कर दिया है. उसकी यह बात सुनकर मेने 
इस विपरीत स्थिति में भी गजब का धीरज रखने और प्रसन्नता नहीं खोने का उससे कारण पूछा
तो उसने बताया की ,"सबसे पहली दूकान वाले को पांच लाख का नुकसान हुआ है, भगवान ने उसको मुझ से भी दस गुना ज्यादा नुकसान पहुंचाया है इसलिए मुझे मेरे नुकसान का कोई गम 
महसूस नहीं हो रहा है. हो सकता है कि मेरी दूकान भविष्य में बंद हो जाए लेकिन पहला वाला
 दुकानदार भी अब ढंग से काम नहीं कर पायेगा ,यही मेरी इस समय की संतुष्टी का मुख्य 
कारण है" 

इन तीनों की एक समान परिस्थिति में गुजरने पर भी  सोच का जो अंतर रहा वह इस संसार में 
 पाये जाने वाले तीन प्रकार के व्यक्तियों की झलक दिखलाता है.              
   

कोई टिप्पणी नहीं: