शुक्रवार, 23 सितंबर 2011

अथ थू 2 जी घोटाला गाथा ........


कैग रिपोर्ट
 .......... 2007-08 में 122 कंपनियों को स्पेक्ट्रम आवंटन तथा 35 दोहरी प्रौद्योगिकी वाली सेवाएं परिचालित करने के लाइसेंस जारी करने के जो मनमाने तरीके अपनाए गए उससे सरकार को अनुमानित 1,76,645 करोड़ रुपए के राजस्व का नुकसान हुआ।
............... ऑडिटर ने यह अनुमान हाल में सरकार द्वारा की गई 3जी स्पेक्ट्रम की नीलामी के मूल्य के आधार पर लगाया है। 
कैग ने कहा............
 ........ 2008 में 122 में से 85 लाइसेंस ऐसी 13 कंपनियों को जारी किए गए, जो इसके पात्र नहीं थीं। आवेदन के समय ये कंपनियां चुकता पूंजी की अनिवार्यता को पूरा नहीं करती थीं। सरकारी ऑडिटर के अनुसार, इन 85 लाइसेंस में से 45 लाइसेंस ऐसी कंपनियों को जारी किए गए जो मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन (एमओए) के मुख्य उद्देश्यों को ही पूरा नहीं करती थीं।
      कैग ने रिलायंस टेलीकम्युनिकेशंस और टाटा टेलीसर्विसेज जैसी प्रमुख दूरसंचार कंपनियों को दिए गए दोहरी प्रौद्योगिकी लाइसेंस की प्रक्रिया पर भी सवाल उठाया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दोहरी प्रौद्योगिकी के लाइसेंस जारी करने की प्रक्रिया में पारदर्शिता तथा ईमानदारी का अभाव था और इसी तरह के अन्य ऑपरेटरों को समान अवसर नहीं उपलब्ध कराए गए। ये ऑपरेटर सिर्फ नीति की औपचारिक घोषणा के बाद ही दोहरी प्रौद्योगिकी के लिए आवेदन कर सकते थे।

 2-जी स्पैक्ट्रम के भूत 

सुप्रीम कोर्ट ने  भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) की उस रिपोर्ट पर आश्चर्य जताया जिसमें पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा के समय हुए टूजी स्पेक्ट्रम आवंटन घोटाले में कोई नुकसान नहीं होने की बात कही गई है। अदालत ने इस महाघोटाले के मामले में ट्राई की रिपोर्ट पर हैरानी जाहिर करते हुए उसकी कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठाया है।

  पूर्व केंद्रीय दूरसंचार मंत्री ए राजा, पूर्व दूरसंचार सचिव सिद्धार्थ बेहुरिया, राजा के निजी सचिव आरके चंदोलिया और स्वान टेलीकॉम के प्रमोटर शहीद उस्मान बलवा 2-जी मामले में जेल में बंद हैं

संसद की लोकलेखा समिति (पीएसी)ने टूजी स्पेक्ट्रम आवंटन मामले में कथित भूमिका के सिलसिले में कारपोरेट लॉबिस्ट नीरा राडिया और टाटा गु्रप के चेयरपर्सन रतन टाटा को 4 अप्रैल को पेश होने का समन जारी किया ।

रिलायंस के अनिल धीरुभाई अंबानी ग्रुप के समूह प्रबंध संचालक गौतम दोषी, साथ ही वरिष्ठ उपाध्यक्षों सुरेंद्र पिपारा, हरी नायर, यूनिटेक लिमिटेड और यूनिटेक वायरलेस के प्रबंध निदेशक संजय चंद्रा, डीबी रियल्टी और स्वान टेलिकॉम के प्रबंध निदेशक विनोद गोयनका की याचिका निरस्त कर दी, जिसके बाद इन्हें हिरासत में ले लिया गया 

कनिमोड़ी को स्वान टेलीकॉम के प्रचारक शाहिद बलवा के भाई आसिफ़ बलवा का सह-आरोपी क़रार दिया गया है. इसके अलावा 'कुसगांव फ्रूट्स एंड वेजिटेबल लिमिटेड' के निदेशक राजीव अग्रवाल का नाम भी पूरक चार्जशीट में शामिल कनिमोझी और शरद कुमार फिलहाल तिहाड जेल में बंद हैंहै.

वरिष्ठ अधिवक्ता और सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत भूषण ने उच्चतम न्यायालय में शपथपत्र दाखिल करके आज कहा कि सीबीआई टूजी स्पेक्ट्रम घोटाले में पूर्व कपड़ा मंत्री दयानिधि मारन की भूमिका की ईमानदारी से जांच नहीं कर रही है।

..पूर्व केंद्रीय दूरसंचार मंत्री ए राजा ने अदालत में कहा है कि 2 जी मामले में तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम को भी गवाही के लिए बुलाया जाए. 

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश जस्टिस पी बी सावंत का कहना है कि प्रधामंत्री मनमोहन सिंह और 2-जी घोटाले के समय वित्त मंत्री रहे पी चिदंबरम को गवाह के तौर पर बुलाया जा सकता है.

सुब्रह्मण्यम स्वामी का आरोप है कि तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम स्पैक्ट्रम की क़ीमत तय करने के मामले में ए राजा की साज़िश में भागीदार थे.

आगे की गाथा पाठक महोदय पूरी करे ,मैं तो खबरों के माध्यम से इतना ही जान पाया हूँ .......

कोई टिप्पणी नहीं: