बुधवार, 14 सितंबर 2011

जो दरवाजा बंद करके बैठे थे वो लाल जाजम बिछा रहे हैं

ये अमेरिका और वहां के राजनेता अपने स्वार्थ को पूरा करने के लिए बिना पेंदे के लोटे की तरह लुढकते हैं .२००२ के गुजरात दंगे की प्रतिक्रिया में अमेरिका ने नरेन्द्र मोदी को अमेरिका में आने का वीजा नहीं दिया ,दरवाजे बंद कर दिये .उस समय यह देश और गुजरात का अपमान था लेकिन सच्चाई आखिर सामने आती है .हमारे देश की सर्वोच्च अदालत ने जब इस मामले को वापिस निचे की अदालत में भेज दिया तो अमेरिकन कमिटी के कान कड़े हो गए होंगे . इस फेसले के तुरंत बाद श्री मोदी के गुणगान करने शुरू कर दिये .हम गुजरातियों को अब अमेरिकन प्रमाणपत्र की जरुरत कहाँ है ? यदि अमेरिकन संसद कमिटी  नरेंद्र मोदी के विषय में राय बदलती है और खुद के देखने के नजरिये को बदलती है तो भी ज्यादा ख़ुशी नहीं है क्योंकि जिस सच को आम गुजराती १0वर्षों  से बहुमत से कह रहा है वह उन्हें अब समझ आया है ..खेर देर आये दुरस्त आये .    

कोई टिप्पणी नहीं: