सोमवार, 17 अक्तूबर 2011

तुम


तुम 


तेरी आँखों के समन्दर में, उल्फत को छलकते देखा. 
तेरी मदहोश अदाओ से  , जमाने को मचलते देखा.

गूगल से साभार 
 उझड़े हुये गुलशन को ,फूलो से सँवरते देखा.     
तेरे चेहरे की रंगत में, फूलों को सिमटते देखा.
सितारों की चुनड़ी में, चन्दा को झलकते देखा. 
तेरे हुस्न पे फिदा होकर, चंदा को ढलते  देखा.


तेरी आँखों के समन्दर में, उल्फत को छलकते देखा. 
तेरी मदहोश अदाओ से, जमाने को मचलते देखा .


कलियों के खिलने पर ,भंवरो  को टहलते  देखा. 
तेरे रस रसीले होंठो में, भंवरो  को लिपटते देखा.
सागर की गहराई  में, साहिल को पार लगते देखा .
तेरे गालो के गड्ढों में, हर साहिल को डूबते देखा.

तेरी आँखों के समन्दर में, उल्फत को छलकते देखा .
तेरी मदहोश अदाओ से, जमाने को मचलते देखा.


विरह के गीत पर रोते ,रात में चकोर को देखा. 
तेरी यादो में ढलती शाम, करवटों में सूरज देखा. 
यूँ तो शमां पर, मिटते आये हैं, जमाने से परवाने .
तेरे नाम के संग हर पल, मेरे नाम को जुड़ते देखा. 

तेरी आँखों के समन्दर में, उल्फत को छलकते देखा .
तेरी मदहोश अदाओ से , जमाने को मचलते देखा  
     

   
  

कोई टिप्पणी नहीं: