गुरुवार, 25 अक्तूबर 2012

पुतला और रावण


पुतला और रावण 

एक रावण के पुतले को, एक रावण के हाथों फूंकते देखा !

जनता के मीठे  सपनों को, धुं -धुं  करके  जलते  देखा !!

रावण के पुतले को बेबस, रावण पर सुरक्षा कवच देखा !

पुतले के कद से कुछ बढ़कर, रावण के पद- कद को देखा !!

पुतले में मायावी  देखा , एक बाजीगर को जिन्दा देखा !

पुतले में रक्षित लज्जा थी , एक लाज लुटता रावण देखा !!

अहंकार पुतले में देखा, रावण को अट्टहास लगाते  देखा!

एक रावण को एक रावण से,खुल्लम खुल्ला लड़ते देखा!!

धुं -धुं करके जला पुतला,  एक रावण को जिन्दा देखा !

भूखा नंगा मालिक देखा,  राजतिलक नौकर का देखा !!

कोई टिप्पणी नहीं: