शनिवार, 5 जनवरी 2013

तुम किस पंक्ति में हो ?

तुम किस पंक्ति में हो ?

एक आदमी नगर के विद्वान के पास बैठा युग के पतन पर गहरी चिंता कर रहा था।उसने
विद्वान् से कहा- देखो,हमारे परम्परागत मूल्यों का ह्रास हो रहा है।

विद्वान ने कहा- सही बात है।

उस आदमी ने कहा- ज्यादातर लोग उदात्त भावना खोते जा रहे हैं।

विद्वान ने कहा-सही बात है।

उस आदमी ने कहा-लोग भ्रष्ट और अनैतिक होते जा रहे हैं।

विद्वान ने कहा-सही बात है।

उस आदमी ने कहा-हमारा कानून गतिहीन या पंगु हो गया है।

विद्वान ने कहा-सही बात है।

उस आदमी ने कहा-हमारे नेता भी आदर्शों का अनुकरण नहीं कर रहे हैं और सत्ता लोभी
                              हो गए हैं।

विद्वान ने कहा-सही बात है।

उस आदमी ने कहा- गुरु और शिक्षक भी लोभी और असंस्कारी हो गए हैं।

विद्वान ने कहा-सही बात है।

उस आदमी ने कहा-नारी भी पाश्चात्य रंग में रंग के लज्जा के भूषण को छोड़ रही है।

विद्वान ने कहा-सही बात है।

उस आदमी ने कहा-व्यापारी मुनाफाखोर और मिलावटी सामान बेच रहे हैं।

विद्वान ने कहा-सही बात है।

उस आदमी ने कहा-प्रशासनिक अधिकारी कामचोर और रिश्वत लेने वाले हो गए हैं।

उस आदमी ने कहा-सही बात है।

उस आदमी ने कहा-आप मान रहे हैं कि ये सब सही है परन्तु इन बुराइयों से समाज को
                             मुक्त कैसे करे ?क्या आपके पास कोई समाधान ने है।

विद्वान ने कहा- हाँ ,मेरे पास उपयुक्त समाधान है ।

वह व्यक्ति खुश होकर बोला -हमे वह उपाय शीघ्र बताएं ताकि हम समाज को बदल सके?

विद्वान बोला - उपाय बताने  से पहले मैं एक बात तुमसे जानना चाहता हूँ ?

वह व्यक्ति बोला -पूछिये ?

विद्वान बोला -इन सब में आप खुद को किस पंक्ति में पाते हैं?

वह व्यक्ति विद्वान के प्रश्न को सुनकर कुछ देर चुपचाप बैठा रहा और फिर सर झुका कर
चलता बना।      

कोई टिप्पणी नहीं: