बुधवार, 13 मार्च 2013

क्षणिकाएँ ( 2 )

क्षणिकाएँ ( 2 ) 

गपलेबाज को पकड़ना
नामुमकिन है श्रीमान
क्योंकि
वह नेताओं के टोले में छुपा है
और
टोले के चेहरे में
कुछ फर्क नहीं है जनाब





उन्होंने
कूड़े के ढेर को हटाने का
संकल्प कब लिया था
वो,तो-
कूड़े के ढेर को
सर्वत्र बिखेरने में लगे हैं
ताकि-
कोई इल्जाम ना लगा सके




मत ढुंढ़ो
कौओं के झुण्ड में
सफेद कौए
क्योंकि -
कुदरत भी उनके साथ लगती है




आय अर्जन का नया स्त्रोत
कुछ ऐसे बनता है
तू मुझको बेच
मैं तुझे
फिर दोहराए जा
करोड़ो कमाए जा




लूटो और लूटने दो
जोर से चल रहा है
कारण-
आज उनका है
कल हमारा भी हो सकता है













  

कोई टिप्पणी नहीं: