शुक्रवार, 15 अगस्त 2014

हम और हमारा देश

हम और हमारा देश 

हम शिकायत कर्ता बनें ,यह जरूरी भी है परन्तु शिकायत करने से पहले हम अपने
गिरेबान में झाँक कर देखें कि कहीँ सिस्टम की समस्या का एक कारण हम स्वयं
तो नहीं बने हुए हैं।

मतदान करके सरकार चुन कर हम अपने कर्तव्यों से फ़ारिग होते रहे हैं। हम यही
सोचते हैं कि अब सारी समस्याओं पर बैठे -बैठे निराकरण पाना है। घर का एक
मुखिया परिवार को ठीक से चलाने के लिए सब सदस्यों की जरुरत महसूस करता
है वरना घर चलाने में खुद को असहाय महसूस करता है  और हम 125 करोड़ लोगों
का परिवार 550 से कम प्रतिनिधियों पर छोड़ कर अच्छे दिन का सपना पूरा होते
देखना चाहते हैं।

इस गरीब देश के नागरिक गरीब होते हुए भी दान देने में जुटे रहते हैं,यह एक श्रेष्ठ
बात है मगर वह दान सृष्टि कर्ता के नाम पर देने के बाद अनुपयोगी रह जाता है।
जब एक सरकार अपने नागरिकों से कर के रूप में दान माँगती है तब उसे अनुपयोगी
कृत्य समझ हम दूर हट जाते हैं। साल में पचास -सौ रूपये भी हर नागरिक सरकार
को सहर्ष कर्तव्य समझ कर देता है तो छोटे-छोटे समाधान रास्ता बनाते जायेंगे।

विदेशी भाषा सीखना उत्तम बात है क्योंकि उस भाषा के माध्यम से हम सृष्टि के
उस भाग में रहने वाले लोगों के विचार समझते हैं लेकिन हद तो तब होती है जब
यह सब हम राष्ट्र भाषा का मूल्य चूका कर करते हैं,जिस भाषा को देश के ९०%
लोग पूरी तरह से समझते भी नहीं है उनके सामने उस भाषा का प्रयोग हमें कैसे
समृद्ध करेगा ?लेकिन हम विदेशी भाषा को कन्धे पर लाद कर अच्छे समय की
आशा करते हैं।

बड़ा आश्चर्य होता है जब हमारा मीडिया बे सिर पैर के विश्लेषण कर देश के लोगों
का समय नष्ट करता है या मूल्यहीन खबरें दिखाता है। इनका तो धन्धा है यह
समझा जा सकता है मगर इस देश के नेता,विद्धवान और शिक्षित लोग जब इस
प्रकार के घटिया मूल्यहीन,वास्तविकता से परे विश्लेषणों और बहस में भाग लेते
समय नष्ट करते हैं तब आम नागरिक माथा पीटता है।       

कोई टिप्पणी नहीं: