गुरुवार, 18 दिसंबर 2014

कड़वी करेली

कड़वी करेली

पाकिस्तान में तीन दिन का शोक उनके लिये दुःख को सहने के लिए था जो उनके हुक्मरानों के कारण झेलना पड़ा मगर भारत के टी वी समाचार चैनल के लिये यह घटना सेक्युलिरीज्म के लिये मातम मनाने की है जिसे तब तक बताया जा सकता है जब तक इसे क्युमिनल हिंसा में ना खपा दिया जाये!!!

कोई टिप्पणी नहीं: